Shipping in all over the world

nutmeg

जायफल के बारे मे कुछ रोचक तथ्य

दुनिया भर में उपयोग किये जानेवाली एक लोकप्रिय मसाला है ।जायफल.व्यंजनों को अद्वितीय स्वाद देने केलिए इसका इस्तेमाल होता है। इसे कॉफ़ी डेजर्ट और पेय पदार्थों में भी उपयोग किया जा सकता है ।आमतौर पर जायफल को पानी के साथ लिया जाता है।

उत्पत्ति:

जायफल(Jaiphal)  मिरिस्टिका वृक्ष का बीज है जो भारत ऑस्ट्रेलिया तथा प्रशांत महा सागर के कुछ द्वीपों में भी उपलब्ध होते है।  जायफल व्यापर  के लिए पूर्वी ईस्ट इंडीज से प्रप्थ होता है । जायफल वृक्ष दो  मसलों केलिए महत्वपूर्ण है जायफल और जावित्री । सामान्य जायफल का उत्पादन इंडोनेशिया और ग्रानादा में होता है । लेकिन श्रीलंका मलेशिया के पेनांग और करीबिया में भी इसका उथपधान होता आ रहा है।  यह चीन ताइवान और दक्षिण अमेरिका में भी पाया जाता है।

जायफल कहाम उगाया जाता है :

जायफल किसी भी जलवायू में अच्छी तरह से अनुकूली करसकते है । सूखी ज्वालामुखी मिटटी प्रचुर  मात्रा में वर्षा और लगतार गर्म तापमान ऐसे वातावरण में जायफल खूब फलता  फूलता है । जायफल आर्द्र स्थितियों के सात उष्णकटिबंदिया जलवायु में वर्ष भर पनपता है। जायफल के पेड़ आमतौर पर पहाड़ी टलानों  पर उगाये  जाते है। क्ले लोआम रेतीले दोमट और लाल लेटराइट मिट्टी  इसकेलिए उततम माना जाता है।जब तक की अच्छी तरह से सूखा हुआ ज्वालामुखी मिटटी प्रचुर मात्रा में वर्षा और लगातार गर्म तापमान हो ऐसी जगावौं पर जायफल फूल जाता है।

जायफल का उपयोग:

जायफल का उपयोग अनगिनत क्षेत्रों में किये जाते है। दिन ब दिन इसका इस्तेमाल नए क्षेत्रों में होता आरहा है। जायफल व्यापक रूप से मसाला और स्वादिष्ट एजेंट के रूप में स्वीकार किये जाते है। इस के अलावा औषदि बनाने केलिए जायफल का उपयोग किया जाता है। संक्षेप में कहने जाये थो  जायफल का प्रयोग मसाले के रूप में स्वस्थ्य केलिए कॉस्मेटिक और कई तरह की दवावों में भी किया जाता है। विटामिन मिनरल और कार्बनिक यौगिकों के कारण यह स्वस्थ्य पर अच्छा प्रभाव डालता है।आयुर्वेदा में जायफल का बहुत महत्त्व है।

जायफल के स्वस्थ्य लाभ :

रसोयी घर के अलावा स्वस्थ्य  पर भी जायफल का प्रभाव होता है। पोषक तत्वों के साथ ही साथ जायफल में जो एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी डिप्रेसेंट विटामिन और मिनरल्स की मौजूदःगी है यह शरीर को स्वस्थ बनाये रकने में फायदेमंद  होता है । जान लेते है की किस तरह जायफल स्वस्थ्य को लाभकारी होते है।

१) त्वचा के लिए जायफल:

जायफल में ऐसा पोषक तत्व भी होते है जो त्वचा से जुडी हर एक परेशानी को दूर करता है। इस में जो एंटी इंफ्लेमेटरी  गुण है यह मुहासों को रोककर त्वचा को एक चमक प्रदान करता है। जुरिया दाग धब्भे काले घेरे जैसी परेशानियों को ख़तम करने में भी फायदेमंद होते है । लमबे समय से कोई चोट का निशान त्वचा और है तो जायफल का इस्तेमाल से ये परेशानी भी दूर हो जाता है।

२) पाचन तंत्र केलिए:

खाने में स्वाद और सुगन्ध बटाने के साथ ही पाचन तन्त्र का भी ख्याल रकता है जायफल । भूख को बटाकर पेट सम्बन्धी रोग जैसे कब्ज गैस बदहजमी पेट में मरोड पडना व डायरिया से भी राहत दिलाती है।

३) सिर दर्द में फायदेमंद:

सिर दर्द जितना भी तेज़ हो उसको मिनिटों में दूर कर देता है जायफल। जायफलको  पानी या कच्चे दूत में घिसकर माथे पर लेप लगाने से सिर दर्द से तुरंत आराम मिलता है।

४) अंखों की रौशनी बढाने में फायदेमंद:

आँखों से सम्बन्धित रोगों से छुटकारा देनेवाली एंटीऑक्सिडेंट् गुणों का भण्डार है जायफल। इसीलिए आंखों किरोषनी बढाने में इसका प्रयोग किया जाता है।  ध्यान रखे की जायफल आंखों के  अंदर न चला जाये। सिर्फ इसका लेप आंखों के बाहरी त्वचा पर ही लगाये ।

५) जायफल का प्रयोग  अनिद्रा मैं :

बदलती जीवनशैली के कारण कई लोग अनिद्रा (रात में नींद न माना)से परेशान है। अध्ययनों के अनुसार चुटकी भर जायफल लेने से नींद में रुकावट नहीं पडता।जायफल में मौजूत  त्रिमाईरिस्टीन मांसपेशियों को आराम पहुंचा कर अच्छी नींद  प्रधान करती है।

६) बच्चों के लिए जायफल का फायदा :

छोटे बच्चों में होने वाली हर कोई दिक्कत का घरेलू उपाय जायफल को माना गया है । कभी दस्त की शिकायत होती है तो कभी खाँसी या ज़ुकाम। ऐसे में जादुई असर दिखाता है जायफल।माँ के दूध में चुटकी भर जायफल का चूर्ण मिलाकर देने से इन सारी समस्यावो का उपाय होता है।

७) डायबेटिक्स के लिए फायदेमंद:

परिवर्तित जीवनशैली के शिकार है डायबेटिक्स जैसी बीमारी । बूढ़े हो युवा हो यहाँ तक के बच्चों में भी यह पायी जाती है। इस समस्या का हल है जायफल का सेवन। जायफल ओके ट्रिटेरपेनेस का स्रोत माना गया है। इस में anti डायबिटिक गुण मौजूत होते है। जायफल के संतुलित मात्रा में सेवन करने से मोटापा कम हो जाता है और टाइप २ डायबिटीज को खाबु में रखा जाता सकता है।

८) रोग प्रतिरोथ से भरपूर जायफल:

राग प्रतिरोथक क्षमता कमज़ोर होने के कारण कई बीमारियों के पकड़ में आजाते है लोग। जायफल का सेवन इम्यून पावर को बढाने में मददगार साबित हो सकता है। इम्युनिटी को बढाने वाले विटामिन ए  सीऔर इ जैसे पौष्टिक तत्व से बरपुर है जायफल इम्युनिटी बूस्टर का काम करता है।

९) कोलेस्ट्रॉल केलिए जायफल का प्रयोग:

शरीर में कोलेस्ट्रॉल के उतराव-चढ़ाव से कई समस्याएं शुरू होता है। हार्ट अटैक किडनी की समस्या अंखों की रौशनी कम होना आदि परेशानिया बढने लगती है। जायफल के सेवन से कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो सकता   है. इसमें जो एथनोलिक एक्सट्रैक्ट्स होते है कोलेस्ट्रॉल को कम करने में बहुत ही फायदेमंद  साबित हिज है।

जायफलस्वस्थ्य लाभ की एक लम्बी सूजी के साथ एक लोकप्रिय मसाला है। बच्चे  हो या बूड़े  सब केलिए  जायफल वर्धान के थॉर पर काम करता है। जायफल के अनगिनत फायदों को जानकार इसका सही तरह से इस्तेमाल कीजियेगा अपने दैनिक जीवन में इसे शामिल करके अपने आपको स्वस्थ रखियेगा।

Top
thottam-farmfresh
Spices

Thottam Farm Fresh Pvt. Ltd.
1/422A, Thuravoor P.O., Vathakkad
Angamaly, 683 572
Kerala, India
Ph: +91 9746712728
E: care@thottamfarmfresh.com

Follow Us Now